ADV

ज्ञान सरिता पब्लिक स्कूल, शिशोडीह, दरभंगा द्वारा आयोजित वार्षिक प्रतियोगिताओं का पुरस्कार वितरण सह सम्मान समारोह आयोजित

शिक्षा के बिना मानव जीवन अधूरा है। इससे लोगों में आत्मविश्वास, आत्मसम्मान तथा कार्यक्षमता बढ़ती है। शिक्षित होकर कोई भी व्यक्ति अपने जीवन में बहुत कुछ हासिल कर सकता है। यह व्यक्ति में छुपी हुई प्रतिभा तथा कुशलता को जगाती है। शिक्षा से ही हमारे चरित्र का निर्माण तथा व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास संभव है। यह व्यक्ति को अपने कर्तव्यों एवं अधिकारों के प्रति जागरूक करती है। 

उक्त बातें ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय, दरभंगा के स्नातकोत्तर संस्कृत विभाग के प्राध्यापक डा आर एन चौरसिया ने शीशोडीह में ज्ञान सरिता पब्लिक स्कूल द्वारा आयोजित वार्षिक प्रतियोगिताओं के पुरस्कार वितरण सह सम्मान- समारोह का फीता काटकर उद्घाटन करते हुए कही।

डा चौरसिया ने कहा कि बेहतरीन शिक्षा हर सफलता की एकमात्र कुंजी तथा विकास व खुशहाली का मूल आधार है। शिक्षा समाज में निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है जो मानव को सभ्य, योग्य एवं संवेदनशील बनाती है। जन-जन को शिक्षित बनाकर ही खुशहाल समाज तथा विकसित राष्ट्र के सपनों को साकार किया जा सकता है।

मुख्य अतिथि के रूप में प्रमुख, सदर प्रखंड, दरभंगा शंभू कुमार साहू ने कहा कि प्रतियोगिताओं के आयोजन से बच्चों की प्रतिभाओं में निखार आता है। संस्कार घर तथा विद्यालय से ही प्राप्त होता है। खेलना बच्चों के लिए बहुत जरूरी है। ज्ञान सरिता पब्लिक स्कूल निम्न मध्यमवर्गीय परिवार के लिए भी सुलभ है। मुख्य वक्ता के रूप में शिशो पश्चिम के सरपंच मतलूब आलम खान ने कहा कि इस विद्यालय से बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल रही है। वार्षिक प्रतियोगिता से वर्ष भर की तैयारी का पता चलता है। मंच पर आने से बच्चे खुश होकर तरक्की की ओर बढ़ते हैं। आज प्रतियोगिता के समय में माता- पिता को भी बच्चों के लिए समय देना जरूरी है।

विशिष्ट अतिथि के रूप में प्लस टू उच्च विद्यालय, कोयलास्थान, दरभंगा की विज्ञान- शिक्षिका डा अंजू कुमारी ने कहा कि शिक्षा से ही बच्चों का संपूर्ण विकास होता है और वे भविष्य के अच्छे नागरिक बन सकते हैं। यद्यपि आज शिक्षा बच्चों का मौलिक अधिकार है, पर आज भी बहुत से बच्चे इस अधिकार से वंचित हैं, जिनपर हम सब को ध्यान देने की जरूरत है। शिक्षा से ही समाज और राष्ट्र का विकास संभव है। गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से ही बच्चों के सपनों को पंख लग सकते हैं। डा अंजू ने प्रसन्नता व्यक्त की कि विद्यालय के सभी शिक्षक तत्पर एवं संवेदनशील हैं। वहीं बच्चे भी मेहनती और प्रसन्नचित्त हैं।

अध्यक्षीय संबोधन में विद्यालय के प्राचार्य अमरनाथ साह ने कहा कि शिक्षा से हमारे जीवन में ज्ञान का प्रसार होता है और बुद्धि का विकास भी। यह हमें जीवन के कठिन समय में भी चुनौतियों से सामना करने में सहायता करती है। रोजी- रोजगार के लिए शिक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है। शिक्षा रूपी धन बांटने से लगातार बढ़ता ही है। विद्यालय परिवार निरंतर शिक्षा दान में तत्पर रहेगा। उन्होंने समारोह में शामिल अतिथियों, अभिभावकों एवं बच्चों को साधुवाद देते हुए विद्यालय के विकास में सहयोग की अपील की।

सम्मानित अतिथि के रूप में शीशो पूर्वी के मुखिया बजरंगबली दास ने कहा कि इस विद्यालय से गांव में अच्छा वातावरण बना है। मुझे खुशी हो रही है कि बच्चे प्रतियोगिताओं एवं खेलकूद में भी अच्छा कर रहे हैं। उन्होंने खेलकूद को शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहतर बताते हुए माता- पिता से भी अपने बच्चों के लिए समय देने की अपील की।

विशिष्ट अतिथि के रूप में शिशो पश्चिमी के मुखिया अजय कुमार ठाकुर ने कहा कि पढ़ाई एवं खेलकूद प्रतियोगिता में भी विद्यालय के बच्चे निरंतर आगे बढ़ रहे हैं। यहां के शिक्षक मेहनती एवं विद्यार्थी प्रतिभावान हैं। हमलोग भी विद्यालय को पूरा सहयोग करेंगे।

विशिष्ट वक्ता के रूप में शिशो पूर्वी के सरपंच रामबाबू दास ने कहा कि विद्यालय द्वारा बच्चों का सम्मान करना सराहनीय है। गांव में भी इस विद्यालय के द्वारा कम खर्च में अच्छी शिक्षा दी जा रही है, जिसका लाभ आसपास के बच्चों को मिल रहा है।

सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में पवन कुमार निराला ने कहा कि बच्चे गीली मिट्टी के समान होते हैं, जिनमें शिक्षक गुणवत्तापूर्ण शिक्षा तथा उत्तम संस्कार भरते हैं। शिक्षा पाकर ही बच्चे जीवन में सफलता प्राप्त करते हैं।

इस अवसर पर डा आर एन चौरसिया, शंभू कुमार साहू तथा डा अंजू कुमारी को शिक्षा के क्षेत्र में अतुल्य योगदान के लिए फूल- माला, पाग- चादर एवं मोमेंटो आदि से सम्मानित किया गया। वहीं विद्यालय द्वारा आयोजित 40 वार्षिक प्रतियोगिताओं में प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले 121 बच्चों को अतिथियों के हाथों पुरस्कृत किया गया।

समारोह का प्रारंभ अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से हुआ।हर्षित राज के कुशल संचालन में आयोजित समारोह में अतिथियों का स्वागत फूल- माला से किया गया। स्वागतगान विद्यालय की छात्राओं द्वारा प्रस्तुत किया गया।विद्यालय प्रबंध समिति की अध्यक्षा अंशु कुमारी ने अतिथि स्वागत किया, जबकि शिक्षिका राखी झा ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

Post a Comment

0 Comments