ADV

बिहार क्रिकेट संघ के अध्यक्ष को पीडीसीए के पूर्व संयुक्त सचिव ने दिया अपना समर्थन

पटना जिला क्रिकेट संघ के पूर्व संयुक्त सचिव अरूण कुमार सिंह ने बीसीए अध्यक्ष को अपना समर्थन मंगलवार को दे दिया। क्रिकेट जगत के इस दो धुरंधरों की यह मुलाकात जहां क्रिकेट के विरोधियों को हजम नहीं होगी। वहीं श्री सिंह ने अपना समर्थन बीसीए की मान्यता को समाप्त करने की साजिश कर रहे लोगों के मंसूबे को ढेर करने के इरादे से दिया।

पूर्व संयुक्त सचिव ने बीसीए अध्यक्ष राकेश तिवारी के आवास पर मुलाकात कर अपना समर्थन दिया। वहीं बीसीए अध्यक्ष ने श्री सिंह के साथ आने पर कहा कि उन्हें बिहार में क्रिकेट के बेहतरीन माहौल को तैयार करने में काफी बल मिलेगा। उन्होंने साफ कहा कि अरूण जी का साथ पहले भी हमें मिलता रहा है। क्रिकेट में कम अनुभव होने के कारण इन्होंने कई मौकों पर मेरा मार्गदर्शन किया। बीसीए अध्यक्ष ने कहा कि वर्तमान कार्यकाल से सीख लेकर सभी अनुभवियों को साथ लेकर वे आगामी कार्यकाल में काम करेंगे। इन सबों का मागदर्शन से बिहार क्रिकेट के स्वर्णिम काल का निर्माण करने में मुख्य भूमिका अदा करेगी। 

वहीं श्री सिंह ने साफ कहा कि कुछ लोग निजी स्वार्थ में बीसीए की मान्यता को समाप्त करने की साजिश कर रहे हैं, इसमें से कुछ लोग लंबे समय से बीसीए को अस्थि करने में लगे हुए थे, जिससे बिहार में क्रिकेट का विकास ठप्प हो रहा था। क्रिकेट के हित में मुझे यह बिल्कुल मंजूर नहीं। इसके लिए मैं किसी भी हद तक जा सकता हूं। रही बात अध्यक्ष जी कि तो इन्होंने भी विरोधियों के खिलाफ लंबे लंबे चौके-छक्के जड़ सबको परास्त करने का काम किया है। मैं बीसीए अध्यक्ष को आश्वस्त करता हूं कि बिहार में क्रिकेट के तेजी से विकास के साथ-साथ हरसंभव खामियों को दूर करने में बिना शर्त अहम भूमिका निभाउंगा।  उन्होंने अध्यक्ष राकेश तिवारी को आगामी चुनाव में जीत की शुभकामना देते हुए कहा कि इनका आगामी कार्यकाल बिहार क्रिकेट के लिए मिल का पत्थर साबित होगा। 

इस मुलाकात के दौरान पटना जिला के सीनियर क्रिकेटर रूपक कुमार ने भी बीसीए अध्यक्ष को पुष्प माला पहनाकर व पुष्प भेंटकर जीत की शुभकामना देते हुए उनका आशीर्वाद लिया।

Post a Comment

1 Comments

  1. Very few, and they’ll be easy issues like spoons, pots, plates — issues that don’t transfer or flex in a major way. Different supplies have totally different properties, so difficult objects have a tendency to include a wider range of supplies to satisfy all of a design’s necessities. This is simply as true for 3D printed objects; a spool of plastic can solely ever perform as plastic. Although designing a 100%-printed object is a neat problem, it often means that the designer has sacrificed the sturdiness, performance, and longevity of the ultimate object Tower Heaters in return for comfort. Think of a plastic bolt that's printed within the default vertical orientation; put even a small amount of pressure on it, and it'll delaminate ultimately.

    ReplyDelete