ADV

बीसीसीआई के घरेलू टूर्नामेंट सीके नायडू में शतक जड़ने वाले खिलाड़ियों को कैंप में नहीं दी जगह, क्या बिहार क्रिकेट एसोसिएशन सुधारेगी अपनी गलती?

बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने बीसीसीआई द्वारा आयोजित होने वाले घरेलू टूर्नामेंट के लिए कैंप में शामिल होने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट जारी कर दी है. बीसीसीआई ने कुछ दिन पहले ही घरेलू क्रिकेट का शेड्यूल जारी किया था. जिसके बाद बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ने कल यानि सोमवार को कैंप के लिए खिलाड़ियों की एक लिस्ट जारी की, जिसमें कुल 150 से अधिक खिलाड़ियों का नाम शामिल है. लेकिन हैरत की बात तो ये है कि जिस खिलाड़ी ने पिछले सीजन में बिहार अंडर-25 का नेतृत्व किया था उसे ही इस बार कैंप में भी जगह नहीं मिली. पिछले सीजन में हर्ष राज की कप्तानी में बिहार की टीम ने बीसीसीआई का सीके नायडू टूर्नामेंट खेला था.

पिछले साल बीसीसीआई अंडर-25 घरेलू टूर्नामेंट सीके नायडू में जो खिलाड़ी ने हर्ष के अलावा प्रदर्शन किया, उन्हें  1 सिंतबर से आयोजित होने वाली बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के कैंप में जगह नहीं मिली है.  आकाश राज, अपूर्वा आनंद, पीयूष कुमार सिंह, मयंक कुमार, अंकित राज जैसे कुछ नाम शामिल है. 

अगर इन खिलाड़ियों के प्रदर्शन की बात करूं तो आकाश ने 3 मैच की छह पारियों में एक शतक के साथ 178 रन बनाए थे. वहीं अपूर्वा आनंद ने तीन मैचों में कुल 14 विकेट अपने नाम किए थे. मयंक ने दो मैचों में 9 विकेट हासिल किए और एक मैच में 49 रनों की पारी भी खेली थी. अंकित राज ने एक मैच में 68 रनों की पारी खेली थी और इस टीम के कप्तान हर्ष राज थे और उपकप्तान पीयूष कुमार सिंह थे. पिछले सीजन में बिहार का सामना बड़ौदा, राजस्थान और सौराष्ट्र जैसी टीमों से हुआ था. 

जितने भी खिलाड़ी पिछले साल सीके नायडू खेलने गए थे उनका बस साल या दो साल ही बच रहा होगा. ऐसे में बीसीए ने जो लिस्ट जारी की है उसमें इन खिलाड़ियों का नाम नहीं है, अगर सभी प्रतिभावान खिलाड़ियों का एक साल बर्बाद हो गया तो बीसीए इसका क्या जवाब देगी. 

इन खिलाड़ियों का नाम क्यों नहीं दिया गया कैंप में?

सीके नायडू में बिहार टीम गई हुई थी और इन खिलाड़ियों ने हेमन ट्रॉफी जो कि बिहार का घरेलू टूर्नामेंट होता है वो नहीं खेल पाए. जिस कारण से खिलाड़ियों को कैंप में शामिल नहीं किया गया. अब सवाल यह उठता है कि क्या बीसीए हेमन ट्रॉफी को सीके नायडू से भी बड़ा मानता है? बिहार क्रिकेट एसोसिएशन को इस टीम में शामिल वैसे खिलाड़ियों पर तो जरूर विचार करना चाहिए जिसका प्रदर्शन इस टूर्नामेंट में अच्छा रहा हो.

कैसे होगा फिर इन खिलाड़ियों का कैंप में चयन

जहां तक बिहार क्रिकेट संघ के द्वारा जारी सूचना की बात करें तो उन्होंने कहा है कि अगर किसी भी खिलाड़ी जिनका प्रदर्शन उपरोक्त स्तर का हुआ है, तथा उनका नाम इस सूची में नहीं आया है तो वो अपने प्रदर्शन की विवरण के साथ बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के मेल bca@biharcricketassociation.com पर सूचित करें, उनका नाम शीघ्र जोड़ा जाएगा।

बीसीसीआई के शेड्यूल जारी करने के बाद बिहार क्रिकेट एसोसिएशन पर लगते आरोप लगते रहते है कि उन्होंने प्रतिभावान खिलाड़ियों को दरकिनार कर दिया. सबसे अहम सवाल बिहार क्रिकेट एसोसिएशन ऐसा बार-बार क्यों होता है. क्या इसकी जानकारी लेने वाला कोई नहीं है?

Post a Comment

0 Comments