ADV

अश्वनी के हरफनमौला खेल से शांतिपुरम बना चैंपियन


अरवल जिला क्रिकेट संघ द्वारा पिछले सत्र में आयोजित रूबन कप जिला क्रिकेट लीग के फाइनल मैच आज खेला गया। विदित हो कि कोरोना की वजह से पिछले सत्र में फाइनल मैच आयोजित नहीं हो पाया था।

आज के फाइनल मैच का उद्घाटन रूबन हॉस्पिटल पटना के प्रबंध निदेशक डॉ सत्यजित सिंह जी, मेडिकल डायरेक्टर डॉ अनिल कुमार सिंह, बीसीए टूर्नामेंट कमेटी के चेयरमैन श्री संजय सिंह, बीसीए मीडिया कमेटी के कृष्ण पटेल ने खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर किया। डॉ सत्यजीत ने अरवल में क्रिकेट और क्रिकेटर के विकास के लिए हर संभव सहयोग करने का वादा किया। मुख्य अतिथि डॉक्टर अनिल कुमार ने खेल मैदान के विकास के लिए हर संभव सहयोग देने की घोषणा की। टूर्नामेंट कमेटी के चेयरमैन श्री संजय सिंह ने यह बताया कि करुणा के प्रभाव की वजह से क्रिकेट संक्रमण के दौर से गुजर रहा है बावजूद इसके बहुत जल्द बिहार क्रिकेट एसोसिएशन अपना सभी घरेलू गतिविधियों को चालू करेगा।

आज के मैच में आर ए एस के कप्तान जितेंद्र कुमार ने टॉस जीतकर पहले क्षेत्ररक्षण करने का निर्णय लिया जो उनके लिए अच्छा साबित नहीं हुआ। शांतिपुरम की टीम ने अश्वनी के शानदार ऑलराउंड प्रदर्शन के बल पर शांतिपुरम की टीम ने आर ए एस क्लब को 14 रनों से पराजित कर चैंपियन बना।

टीम की ओर से शानदार प्रदर्शन करते हुए अश्वनी ने 80 रन बनाया और 2 विकेट हासिल किया। और पूरी टीम निर्धारित 35 ओवर में सभी विकेट गंवाकर कुल 174 रन बना पाई। आर ए एस की ओर से प्रकाश में 24 रन चार खिलाड़ियों को अभिनव आनंद में तीन और जितेंद्र ने दो खिलाड़ियों को आउट किया।

जवाब में खेलने उतरी आर ए एस की टीम की शुरुआत अच्छी नहीं रही और पूरी टीम 32 ओवर में 160 रन बनाकर आउट हो गई। आर ए एस की ओर से धनंजय मिश्रा ने 54 रन तथा 27 तथा हर्ष ने 17 रन का योगदान दिया। शांतिपुरम की ओर से प्रकाश में 4 और कप्तान वंशीधर ने दो और मिथलेश कुमार में दो खिलाड़ियों को आउट किया।

अंपायर की भूमिका बीसीए पैनल के मनीष रंजन और आलोक कुमार में तथा स्कोरर हिमांशु कुमार ने निभाया।

 कमेंटेटर की भूमिका बेलसर हाई स्कूल के शिक्षक श्री शैलेंद्र कुमार ने बखूबी निभाया। इस अवसर पर नगवा पंचायत के मुखिया श्री तपेश्वर चौधरी, धर्मवीर पटवर्धन, रुपेश रंजन,राम रमैया, सचिव योशिता पटवर्धन, धर्मेंद्र कुमार, पंकज कुमार, जनक किशोर सहित हजारों लोग उपस्थित थे।


Post a Comment

0 Comments