ADV

बीसीए और सेलेक्टर्स के बीच फंस कर रह गयी बिहार की सीनियर टीम, बिना अभ्यास टीम हुई थी रवाना


विजय हज़ारे ट्रॉफी में खेले गए पांच के पांच मुकाबले हारने के बाद तो यही पता लगता है कि बिहार के टीम की तैयारी क्या है। बिहार जो पिछले साल प्लेट ग्रुप में शानदार प्रदर्शन कर रही थी। वही इस साल इलीट ग्रुप में जाने के बाद सारे आशाओं पर पानी फेर दिया। कुछ खिलाड़ियों के निराशजनक प्रदर्शन बाद कुछ खिलाडी भी बदले गए पर नतीजा नही बदला।

विजय हज़ारे ट्रॉफी:- बिहार की हार जारी,जम्मू कश्मीर ने बर्षा बाधित मुकाबले को 65 रनों से जीता

टीम सेलेक्ट करने के लिए अपने अभ्यास मैच कराया, लेकिन टीम सेलेक्ट हो जाने पर अभ्यास के लिए प्रयाप्त समय ही नही था। जबकि आपको मालूम था कि इस बार हमारी टीम इलीट ग्रुप में है, और इलीट ग्रुप की टीमें प्लेट से अच्छी होती है, फिर भी ऐसी लापरवाही क्यों ।

भारत ने 203 रनों के बड़े अंतर से अफ्रीका को हराया, इस मैच में टूटे कई रिकॉर्ड और कई कीर्तिमान बनाएं गए।

बीसीसीआई के तरफ से भेजे गए सेलेक्टर्स ने बिहार के टीम की घोषणा टीम निकलने से 3-4 दिन पहले ही किया गया। ऐसा में खिलाड़ियों में आपस मे समन्वय बना भी या नही । आपने सोचा होगा कि टीम पिछले बार की तो है, सब खिलाडी उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। पर ये आप भूल गए कि पिछले साल आपने सीनियर टीम का 15 दिन कैम्प लगाया था और तब जाकर टीम विजय हज़ारे के सेमीफाइनल तक पहुँची थी, और इस साल ऐसी कोई तैयारी नही की तो नतीजा आपके सामने है।
ये सोचने की बात है कि बिना पूरे टीम को साथ अभ्यास किए, आप इतने बड़े घरेलू टूर्नामेंट में कैसे जीत सकते है।


Post a Comment

0 Comments